Enter
New User Click here | Forgot Password ?
  नवीनतम समाचार  

"Faculty/Consultants/Authors/Course Directors/Conference Organisers/ Monitors etc. ◦Advertisement"

"Document for submission of Application / Proposal."

"Advertisement for PGDC CET- 2011"

"Prospectus for PGDC 2011-12 Admissions "



  सीबीटी और प्रकाशन
मल्टीमीडिया सीबीटी

प्रकाशन

सिमुलेटर

मॉडल

पुस्तकालय

सहयोगी लिंक्स
एनपीटीआई मुख्यालय

विद्युत मंत्रालय

एनपीटीआई मुख्यालय
 
एनपीटीआई विषयी जानकारी
राष्ट्रीय विद्युत प्रशीक्षण प्रतिष्ठान (एनपीटीआई)एक आईएसओ 9001 और आईएसओ 14001 प्रमाणित संगठन है यह अपने फरीदाबाद स्थित निगमित कार्यालय के साथ पावर सेक्टर में प्रशीक्षण और मानव संसाधन विकास के लिए शिर्ष निकाय के रुप में कार्यरत है । एनपीटीआई दे्य के विभिन्न पावर क्षेत्रों में अपने यूनिट्स, जो फरीदाबाद, नैवेली(1965), दुर्गापुर(1968), बदरपुर, नई दिल्ली(1974), नागपुर(1975) में स्थित हैं । एडवांस मैनेजमेन्ट एन्ड पावर स्टडीज (CAMPS), फरीदाबाद में सन् 2000 से चल रहा है और उत्तर पूर्वी क्षेत्रीय संस्थान, गुवाहाटी सन् 2003 से चल रहा है तथा हाइड्रो पावर ट्रेनिंग इन्स्टीट्यूट (एचपीटीआई) की स्थापना नांगल में होने वाली है, पावर सिस्टम ट्रेनिंग इन्स्टीट्यूट (पीएसटीआई) बंगलौर में वड्र्ढ 1972 से और हॉट लाइन ट्रेनिंग सेन्टर (एचएलटीसी) भी बगलौर में ही 1974 से चल रहा है ।

एनपीटीआई मैन पावर के विकास और प्रशीक्षण आवश्यकताओ के प्रति पूरी तरह से सचेत और प्रतिबद्ध है इसीलिए पावर सेक्टर और सम्बन्धित इन्डस्ट्रीज की दीर्धवधि आवश्यकताओं और उद्देश्यों को यथा्यीघ्र पूरा करने के लिए अल्पावधि और दीर्घावधि पाठ्यक्रमों का आयोजन करता है । लगातार यह रिकॉर्ड रहा है कि पिछले 4 द्यकों में नियमित कार्यक्रमों के जरिये 100,000 से भी अधिक प्र्ियक्षणार्थी प्रशीक्षित किये गए हैं ।

एनपीटीआई के इतिहास में लगातार कई उछालों के क्रम में वित्त वड्र्ढ 2004-05 मील का पत्थर सिद्ध हुआ है । विद्युत मंत्रालय के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर होने के पश्चात क्रमश: चौथे वर्ष में विशिष्ट रेटिंग को प्राप्त करने के लिए उत्कृष्टता की नई ऊचाइयों को छूने के लिए गुणवत्ता के प्रति प्रतिबद्धता और दृढ़ संकल्प के साथ हमारी सामूहिक क्षमताओं और व्िियष्ट सेवाओं की तीव्र और नावीन्यतापूर्ण मार्केटिंग द्वारा शिक्षा और प्रशीक्षण के अलग-अलग सेगमेन्ट्स में अधिक से अधिक क्लाइन्ट्स तक पहॅंुचने के लिए नवीनता की सच्ची खोज और विविध प्रयासों को करने में ही यह वड्र्ढ बीत गया ।

एनपीटीअई को  प्रशीक्षण  और इन्डस्ट्री के तकनीकि अन्तरापृष्ठ सहित पावर सेक्टर के भी मानव संसाधन विकास के क्षेत्र में

व्यावसायिक व्यिेड्ढज्ञता हासिल है और यह कोर पावर सेक्टर एवं एनर्जी सेक्टर को प्रशीक्षण सेवाए प्रदान करने वाला अपने

प्रकार का एक ही संस्थान है ।

भारतीय विद्युत नियम 1956 वड्र्ढ 1981 में संशोधितके नियम 3, उपनियम 2 ए के अन्तर्गत भारतीय विद्युत उद्योग में विधिवत्रुप से प्रशीक्षित कार्मिकों की उपलब्धता को सुनिश्चित करने के लिए सक्षमता प्रमाणित करने के उद्देश्य से एनपीटीआई राष्ट्रीय प्रमाणन प्राधिकरण के रुप में भी कार्य कर रहा है ।

एनपीटीआई आधुनिक और सीमान्त तकनीकियों के क्षेत्र में पावर सेक्टर के उच्चतर सोपानकों तक पहॅंुचने के लिए एडवांस लर्निंग एन्ड मैनेजमेन्ट स्टडीज के लिए प्रथम नोडल इन्स्टीट्यूट के रुप में जाना जाता है ।एनपीटीआई ने पावर सेक्टर में उत्कृष्टता के लिए सिस्टम बनाने के क्रम में टेक्नोलोजी को मैनेजमेन्ट के साथ मिलाने के लिए एडवांस मैनेजमेन्ट एन्ड पावर स्टडीज सेन्टर(CAMPS) की स्थापना की है और कई व्यापक कैप्सूल पाठ्यक्रम भी विकसित कर रहा है, जिनमें हाइड्रो, थर्मल पावर सिस्टम्स, टोटल क्वालिटी मैनेजमेन्ट, एक्जीक्यूटिव डेवलपमेन्ट ट्रेनिंग इत्यादि विड्ढय कवर होते हैं तथा नवीनतम जानकारियों के प्रचार-प्रसार के लिए वर्क्यॉप, सेमिनारों और कॉन्फ्रेन्सों के माध्यम से


टेक्नोलोजी मैनेजमेन्ट इन्टरफेस, पावर एन्वॉयरमेन्ट इन्टरफेस, पावर फाइनेन्सिंग, निजीकरण और एनपीटीआई

ऑन-प्लान्ट/न-साइट कस्टमाइज ट्रेनिंग प्रोग्राम आयोजित करने में सक्षम है और दे्यभर के विभिन्न विद्युत मंडलों,

निगमों और प्राइवेट यूटिलिटीज की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए यहॉं कई आन-साइट और न जॉब ट्रेनिंग प्रोग्राम आयोजित किये गए हैं ।

एनपीटीआई ने प्रोसेस इन्डस्ट्रीज जैसे स्टील, सीमेन्ट, एल्युमिनियम, फर्टिलाइजर्स, रिफाइनरीज जैसे बीबीएमबी, बीएचईएल, सीईए, डीपीएल, डीवीसी, ईसीआईएल, एफएसीटी, जीएआईएल, इफ्को, आईओसीएल, आईआरईडीए, केआरआईबीसीओ, नाल्को, एनईईपीसीओ, एनएफएल, एनएचपीसी, एनएलसी, एनपीसी, एनटीपीसी, पावर ग्रिड, सेल, टीएचडीसी, एपीजीईएनसीसीओ, एएसईबी, बीएसईबी, सीईएसई, डीवीबी, जीईबी, एचपीजीसीएल, केपीसीएल, एमपीईबी, एमएसईबी, ओएचपीसी, ओपीजीसीएल, पीएसईबी, आरआरयूवीएनएल, टीएनईबी, यूपीआरवीयूएन, डब्ल्यूबीएसईबी, एसीसी, एईसीओ, बीएसईएस, हिन्डाल्को, कोचीन रिफाइनरीज, श्रीराम केमिकल्स एन्ड फर्टिलाइजर्स, मालविका स्अील्स, ऊड्ढा रेक्टीफायर्स, इन्डो-गल्फ पावर इत्यादि की प्रशीक्षण आवश्यकताओं को भी पूरा किया है ।

विभिन्न पारदे्यीय कम्पनियों जैसे- एईएस बारका, ओमन, एकेसीएस, बीपीडीबी, बांगलादे्य, कम्बोडिया, डीओपी भूटान, एथियोपिया, ईराक, केन्या, मले्ियया, मैक्सिको, म्यांमार, नेपाल, नाइजेरिया, फिलिपीन्स, सूडान, साइरिया, जांबिया, जेसा, जिंबाबवे इत्यादि के व्यवसायियों ने एनपीटीआई में प्रशीक्षण सुविधाओं से लाभान्वित हुुए ।
वड्र्ढ 2004-05 के दौरान निरन्तर बिजली के लिए पानी की आवश्यकता के विड्ढय में जनजागृति अभियान कार्यक्रम का आयोजन किया गया था, जिसमें 25,956 लोगों ने भाग लिया ।

ग्राहकों के साथमित्रवत् सम्बन्ध कायम करते हुए एनपीटीआई सतत गुणवत्ता के लिए प्रतिबद्ध है । सरवेलेन्स आडिट्स में यह पाया गया है कि, एनपीटीआई एक श्रेष्ठ आएसओ प्रमाणित संस्थान है अर्थात यह एक सुदृढ़ संगठन है जो, अच्छी गुणवत्ता को बरकरार रखते हुए सदा परफॉर्मेन्स के लक्ष्यों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है ।

एनपीटीआई निगमित कार्यालय में कैसे पहुॅंचें
दिल्ली से फरीदाबाद आते हुए एनपीटीआई कॉम्प्लेक्स बदरपुर बॉर्डर से 5 किलोमीटर की दूरी पर है और फ्रिक इन्डिया के पीछे की ओर स्थित है । रेलवे स्टे्यन, सराय काले खॉं (निजामुद्दीन रेलवे स्टे्यन के पास), आईएसबीटी, लाजपत नगर या आश्रम से अदरपुर बॉर्डर तक लोकल बस से जाना पड़ता है, बॉर्डर एनपीटीआई कॉम्प्लेक्स तक के लिए ऑटो रिक्शा मिल जाते हैं । फरीदाबाद से एनपीटीआई मुख्यालय पहॅंचने के लिए भी आॅटोरिक््या उपलब्ध रहते हैं ।

एनपीटीआई के क्षेत्रीय संस्थानों में कैसे पहॅंुचें नई दिल्ली (बदरपुर)यह संस्थान राष्ट्रीय राजमार्ग (ने्यनल हाईवे) नं. 2 (मथुरा रोड) पर बदरपुर थर्मल पावर स्टे्यन (बीटीपीएस) कॉम्प्लेक्स के अन्दर स्थित है ।

 दिल्ली और नई दिल्ली रेलवे स्टे्यन से बदरपुर के लिए दिल्ली परिवहन निगम की बसें चलती हैं और थर्मल पावर स्टे्यन गेट के दाईं ओर से होकर जाती हैं । डीटीसी और हरियाणा रोडवेज की बसें जो अन्तर्राज्यीय बस टर्मिनल से फरीदाबाद और बल्लभगढ़ जाती हेैं वे बीटीपीएस कॉम्प्लेक्स पर भी रुकती हैं । डीटीसी की बसें लाजपतनगर से बदरपुर के लिए रुट नं. 415 पर चलती हैं ।फरीदाबाद से संस्थान में पहॅंचने के लिए भी बसे उपलब्ध रहती हैं ।

दुर्गापुर
यह संस्थान सिटी सेन्टर एरिआ (माइकल फराडे एवेन्यु) में स्थित है और दुर्गापुर रेलवे स्टे्यन से करीब 9 किलोमीटर की दूरी पर है । दुर्गापुर रेलवे स्टे्यन से टैक्सी, ऑटो रिक्शा उपलब्ध रहते हैं और सिटी सेन्टर तक के लिए सिटी बसें भी उपलब्ध रहती हैं जहॉं से संस्थान तक पहॅंुचने के लिए आॅटो रिक््या किया जा सकता है ।

नागपुर
नागपुर संस्थान रेलवे स्टे्यन से करीब 8 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है । रेलवे स्टे्यन से संस्थान में जाने के लिए टैक्सी और आटोरिक््या आसानी से उपलब्ध रहते हैं तथा संस्थान तक सिटी बसें भी चलती हैं । संस्थान के आस-पास का इलाका गोपालनगर के नाम से जाना जाता है , यह साउथ अम्बाझरी रोड पर विश्वेश्वरैया ने्यनल इन्स्टीट्यूट आफ टेकेलोजी के मुख्य द्वार के सामने स्थित है ।

नैवेली
संस्थान कॉम्प्लेक्स नैवली टाउन्ियप के ब्लॉक 14/21 में स्थित है और नैवेली सेन्ट्रल बस स्टैन्ड से करीब 6 किलोमीटर की दूरी पर है । संस्थान कॉम्प्लेक्स के होस्टल में जाने के लिए बस स्टैेन्ड से आटो रिक्शाा मिल जाते हैं । मद्रास से नैवेली तिरुवल्लुवार परिवहन निगम की एक्सप्रेस बसों से या ठनठई पेरियार परिवहन निगम के रुट नं. 199 द्वारा पहॅंुचा जा सकता है । नैवेली ट्रेन द्वारा भी पहूंुचा जा सकता है इसके लिए मद्रास एगमोर स्टे्यन से ट्रेन द्वारा विरुधांचलम तक आना होगा और फिर विरुधांचलम से नैवली तक बस द्वारा आना होगा । सड़क के रास्ते से नैवेली मद्रास से 200 किलोमीटर की दूरी पर है और ट्रेन द्वारा 250 किलोमीटर की दूरी पर है ।

पावर सिस्टम्स ट्रेनिंग इन्स्टीट्यूट
यह संस्थान बंगलोर में 9 वीं मेन रोड, यारबनगर, बाना्यंकरी सेकेन्ड स्टेज के सामने, बाना्यंकरी मंदिर के पीछे सुब्रमण्यपुरा रोड पर स्थित है । यह संस्थान बंगलोर सिटी रेलवे स्टे्यन /मंगलोर सिटी बस स्टेैन्ड से करीब 10 किलोमीटर पर और बंगलोर हवाई अड्डे से 20 किलामीटर की दूरी पर है ।
 

बंगलोर सिटी रेलवे स्टे्यन से पूर्व भुगतान वाले (प्रिपेड) आटो रिक्शा की सर्विसेज उपलब्ध रहती हैं । बंगलोर सिटी बस स्टे्यन से यारबनगर बस स्टॉप से होते हुए बस रुट नं 15 सी, 15 ई, 15 एच, 210 ए, 210 आर और पी तथा 210 ए पी की सिटी बसें भी चलती हैं । हवाई अड्डे से भी पूर्व भुगतान वाले (प्रिपेड) आॅटो रिक््या की सर्विसेज उपलब्ध रहती हैं ।

हॉट लाइन ट्रेनिंग सेन्टर
हॉट लाइन ट्रेनिंग सेन्टरबंगलोर हवरई अड्डे से 45 किलो मीटर की दूरी पर स्थित है । हवाई अड्डे से एचएलटीसी पहॅंुचने के लिए एअरपोर्ट रोड पर चलते हुए एम जी रोड की तरफ आए । डायमंड डिस्ट्रिक्ट (इन्दिरा नगर- करीब 3 मि.मी.) के पास इन्टरमिटेन्ट रिंग रोड पर बाए मुड़ जाए । इन्टरमिटेन्ट रिंग रोड पर चलते हुए कोरमंगला की तरफ आए जब तक कि, रोड खत्म नहीं हो जाती (हॉसर रोड पर)करीब 8 मि. मी. पर है । हॉसर रोड पर केन्द्रीय सदन के बाद बाईं ओर मुडें़ । करीब 2 दूर बंगलोर सिल्क बोर्ड पहॅंुचने तक चलते रहें ।सिल्क बोर्ड सर्कल पर दाईं ओर मुड़ें और 5 कि.मी. दूरी पर स्थित बन्नेरघट्टा सर्कल आने तक चलते रहें । फिर बन्नेरघट्टा ने्यनल पार्क की ओर बाईं ओर मुड़ें । बन्नेरघट्टा रोड पर करीब 2 कि.मी. चलें जब तक कि, जे.पी. नगर सर्कल नहीं आ जाता । जे.पी. नगर आउटर रिंग रोड पर तब तक चलें जग तक कि 8 कि.मी. की दूरी पर स्थित सारक्की गेट रोड नहीं आ जाती । कनकपुरा रोड पर सारक्की गेट से बाईंं ओर मुड़ जाएॅं । सारक्की गेट से एचएलटीसी कॉम्प्लेक्स कनकपुरा रोड पर करीब 18 कि.मी. की दूरी पर स्थित है ।

बी.टेक./ बी.ई. (पावर)

एनपीटीआई ने उद्योगोन्मुख विधिवत् ्ियक्षा की संरचना के प्रयास किये और ये प्रयास एनपीटीआई (उत्तर क्षेत्र), बदरपुर में बी.टेक.(पावर) में चार वड्र्ढीय स्नातक पाठ्यक्रम पहली बार आरंभ होने के साथ साकार हुए । इसका उद्घारिक्शा306;क 5 सितम्बर 2001 को माननीय केन्द्रीय विद्युत मंत्री श्री सुरे्य पी प्रभु के शुभहस्ते माननीय केन्द्रीय विद्युत राज्यमंत्री श्रीमती जयवंती मेहता की उपस्थिति में हुआ । यह पाठ्यक्रम एआईसीटीई द्वारा विधिवत् रुप से मान्यताप्राप्त है और गुरुगोविन्द सिंह इन्द्रप्रस्थ विश्वविद्यालय, दिल्ली से संलग्नित है ।

एनपीटीआई ने दिनांक 11 सितम्बर 2001 को अपने पश्चिम क्षेत्रीय संस्थान, नागपुर में भी यह पाठ्यक्रम आरंभ किया गया है ।यह पाठ्यक्रम एआईसीटीई द्वारा अनुमोदित है और राष्ट्रसंत तुकड़ोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय से संलग्नित है । माननीय केन्द्रीय विद्युत राज्यमंत्री श्रीमती जयवंती मेहता के शुभहस्ते दिनांक 10 अक्टूबर 2001 को इस पाठ्यक्रम का विधिवत् उद्घाटन हुआ ।

बी.टेक. (पावर) पाठ्यक्रम पूर्व क्षेत्रीय संस्थान, दुर्गागपुर में भी दिनांक 12 अगस्त 2002 से आरंभ किया गया है ।यह पाठ्यक्रम

एआईसीटीई द्वारा अनुमोदित है और पश्चिम बंगाल तकनीकि विश्वविद्यालय, दुर्गापुर से संलग्नित है ।

कार्यक्रम विड्ढयी जानकारी
एनपीटीआई द्वारा प्रस्तावित यह 4 वड्र्ढीय स्नातक पाठ्यक्रम बी.टेक./बी.ई. पावर इन्जीनियरिंग(मेकेनिकल/इलेक्ट्रिकल) पूरे भारत में अपने प्रकार का पहला पाठ्यक्रम है ।
यह कार्यक्रम उन युवा उम्मीदवारों को द्यिा प्रदान करता है, जो पावर इन्डस्ट्री, जो कि, सभी औद्योगिक गतिविधियों का आधार स्तंभ है, में अपना भविष्य देख रहे हैं ।इस कार्यक्रम में बी.टेक. प्रोग्राम में प्रायः उपलब्ध कराए जाने वाले नियमित इनपुट्स का समावे्य रहता है और भारतीय विद्युत अधिनियम 1956 पर भी जानकारी उपलब्ध कराई जाती है और यह पाठ्यक्रम पावर सेक्टर के लिए दक्ष इन्जीनियरिंग एक्जीक्यूटिव्स तैयार करता है ।

इसकी पाठ्यचर्या इस प्रकार से डिजाइन की गई है कि, मेकेनिकल/इलेक्ट्रिकल ब्रांच लेने वाले विद्यार्थियों को अन्तिम रुप से प्रदान की गई डिग्री बी.टेक. पावर इन्जीनियरिंग (मेकेनिकल/ इलेक्ट्रिकल) हो सकती है ।

► इस पाठ्यक्रम का उद्देश्य- इन्डियन पावर सेक्टर को चलाने और इसे टेक्नो-कम्िर्ययल लाइन्स पर आगे बढ़ाने के लिए आवश्यक तकनीकी कौ्यल से युक्त प्रतिबद्ध और सक्षम प्रोफे्यनल्स तैयार करना है ।

ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ
एनपीटीआई में चल रहे प्रशीक्षण पर एक नजर :- कैम्प्स/एमबीए/बी.टेक./बी.ई.(पावर)/पीजीडीसी इन टीपीपीई/पीडीसी इन टीपीपीई/ट्रांसने्यनल ट्रेनिंग/सिमुलेटर ट्रेनिंग/सीबीटीज एन्ड पब्लिके्यन / कन्सलटेन्सी/एनपीटीआई न्यूजलेटर/ने्यनल

ट्रेनिंग पॉलिसी/आर एन्ड डी/मास एजुके्यन/हमारा मोटिवे्यन
ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ


पीजीडीसी में प्रवे्य लेना कैसे लाभदायक है-

थर्मल पावर प्लान्ट इन्ीनियरिंग में स्नातकोत्तर डिप्लोमा पाठ्यक्रम पीजीडीसी में आप क्यों प्रवे्य लें

इस पाठ्यक्रम का उद्देश्य राज्य विद्युत मंडलों/पावर यूटिलिटीज की आवश्यकतानुसार बड़ी संख्या में तकनीकि रुप से प्र्ियक्षित मैन पावर उपलब्ध कराना है ।पावर यूटिलिटीज इन पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन्जीनियरों को ही लेना चाहेंगे क्यों कि, यह डिप्लोमा पाठ्यक्रम भारत सरकार के गजट की अनिवार्य आवश्यकताओं को पूरा करता है । गजट में निम्नांकित रुप से उल्लेख है कि,‘‘ कोई भी ऐसा व्यक्ति जो, पर्याप्त रुप से प्रशीक्षित और मान्यता प्राप्त संस्थान से व्िियष्ट प्रशीक्षण प्राप्त नहीं है, वह 100 मेगावाट या इससे अधिक क्षमता वाले जनरेटिंग स्टे्यन और इसके सब-स्टे्यन के पूर्णतः या किसी हिस्से के रखरखाव का कार्य नहीं करेगा ।’’इस उद्देश्य के लिए एनपीटीआई के चारों संस्थान भारत सरकार की मान्यता प्राप्त हैं ।

पाठ्यक्रम विड्ढयी जानकारी

यह मॉडयूलर आधारित एक वड्र्ढ का पाठ्यक्रम है, जिसमें 22 मॉड्यूल्स होते हैं, जो सैद्धान्तिक और न-जॉब प्रशीक्षण में

विभाजित होते हैं । सैद्धान्तिक मॉड्यूल्स मुख्यतः एनपीटीआई के नागपुर, नैवेली, बदरपुर(नई दिल्ली) और दुर्गापुर स्थित क्षेत्रीय

संस्थानों में आयोजित किये जाते हैं जबकि, आॅनजॉब प्रशीक्षण मॉड्यूल्स आस-पास स्थित थर्मल पावर स्टे्यनों में

आयोजित होते हैं । सिमुलेटर प्रशीक्षण, जो इस पा्यक्रम का अभिन्न हिस्सा बन गया है आरपीटीआई बदरपुर और नागपुर में

आयोजित किया जा रहा है ।

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा पाठ्यक्रम को जबरदस्त प्रतिसाद मिल रहा है और प्र्ियक्षित मैन पावर विभिन्न सेक्टर के संगठनों द्वाराकैम्पस इन्टरव्यू के माध्यम से चुने गए हैं पिछले चार वड्र्ढों में जिन कम्पनियों ने प्र्ियक्षित मैन पावर को अपने यहॉं

नियुक्त किया है वे इस प्रकार से हैं : -

► एबीबी
► जिन्दल पावर
► एस्सार पावर
► एल एन्ड टी
► एनरॉन (दाभोल पावर प्रोजेक्ट)
► चम्बल फर्टिलाइजर्स
► थर्मेक्स
► कनोडिया केमिकल्स
► रोल्स रॉयस
► इन्डियन चार्ज क्रोम
► रिलायन्स पावर
► बीएसईबी
► एनपीसी
► टीईसी
► जेओएमसी
► सीमेन्स
► एनएचपीसी
► डीवीसी
► मालको
► बिरला कॉपर


ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ
थर्मल पावर प्लान्ट इन्जीनियरिंग में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा पाठ्यक्रम/उम्मीदवारों के लिए सूचना/1 के लिए मॉडयूल्स की सूची

अनुकृति(सिमुले्यन) का विश्व - तकनीकि में एक कदम आगे

एनपीटीआई पावर प्लान्ट्स ऑपरेशन के मानकों को बेहतर बनाने के लिए प्रशीक्षण विधियों में सुधार के निरन्तर प्रयास करता रहा है ।एनपीटीआई प्रथम और सबसे पहला ऐसा संस्थान है, जिसने फूल स्कोप डिजिटल, रीयल टाइम ट्रेनिंग सिमुलेटर के द्वारा पावर प्लान्ट आफ जॉब, हैन्ड्स आन, ऑपरेशन ट्रेनिंग के जप्रभाव को महसूस किया और शिघ्र ही वर्ष 1983 में एनपीटीआई (उ.क्षे.), नई दिल्ली में फॉसिल फ्यूअल फायर्ड 210 मेगावाट सिमुलेटर द्वारा प्रशीक्षण आरंभ कर दिया ।

एनपीटीआई ने दो और हाई क्वालिटी, हाई फिडेलिटी (भ्पही पिकमसपजल) फुल स्कोप हाई-टेक रीयल टाइम सिमुलेटर स्थापित किये हैं । ये सिमुलेटर- ‘‘कन्वेनशनल पैनल’’ और ‘‘सीआरटी कीबोर्ड’’ (वीडियो प्रोसेस/डीडीसी) दोनों में शिप्ट चार्ज इन्जीनियरों/युनिट कन्ट्रोलरों/आपरेटरों को प्रशीक्षण देने में पूरी तरह से सक्षम हैं । यूनिट ऑपरेशन की ये विधियॉं ऑपरेशनल एक्सपर्टाइज की भविष्य में आने वाली मॉंगों को पूरा करती हैं ।

एक इन्टीग्रेटेड प्लान्ट प्रोसेस ऑपरेशन परिदृश्य में 250 से भी अधिक इमरजेन्सी वाली स्थितियों को नियन्त्रित किया है । इस प्रशीक्षण के दौरान इन्जीनियर्स दबावपूर्ण स्थितियों के साथ ऑपरेशन की फल रेंज का अनुभव प्राप्त कर सकते हैं और अच्छे ट्रबल्यूटर्स बन सकते हैं, जो कि बहुत ही महत्वपूर्ण है ।

एनपीटीआई प.क्षे.,नागपुर और एनपीटीआई, निगमित कार्यालय, फरीदाबाद में क्रम्यः 210 मेगावाट और 500 मेगावाट दोहरी सुविधाओं वाले ट्रेनिंग सिमुलेटर

210 मेगावाट सिमुलेटर
एनपीटीआई (उ.क्षे.),
नई दिल्ली.

कोर्स प्रोफाइल में निम्नांकित विषयोंका का समावे्य है :

► कोल्ड स्टार्ट अप
► वार्म स्टार्ट अप
► हॉट स्टार्ट अप
► नियोजित शट डाउन
► इमरजेन्सीज
► इक्विपमेन्ट्स फंक्शनल ग्रुप लॉजिक्स
► एफ एस एस एस
► ऑटोमेटिक टरबाइन रन अप सिस्टम
► बॉइलर एन्ड टरबाइन फॉलो मोड्स आफ ऑपरेशन
► फिक्स्ड एन्ड स्लाइडिंग प्रे्यर ऑपरेशन
► सी एम सी ऑपरेशन
► ऑटोमेटिक टरबाइन टेस्टिंग
► लोड शेडिंग रिले

एनपीटीआई (प.क्षे.), नागपुर

राष्ट्रीय विद्युत प्रशीक्षण प्रतिष्ठान, पश्चिम क्षेत्रीय संस्थान 1975 से कार्य कर रहा है । यह संस्थान नागपुर शहर के बीचोबीच 17.8 एकड़ की जमीन पर बने अपने कॉम्प्लेक्स में स्थित है, जिसमें सभी इन्फ्रास्ट्रक्चरल सुविधाएं जैसे संस्थान भवन, वर्क्यॉप बिल्डिंग, सिमुलेटर प्रोजेक्ट, छात्रावास, विनोदगोष्ठीगृह, डिस्पेन्सरी, आवसीय क्वार्टर इत्यादि उपलब्ध हैं ।

नागपुर में उपलब्ध इन्फ्रास्ट्रक्चरल सुविधाए :

ए) क्लास रुम्स - 12 नं. (बैठने की क्षमता 30 से 40 तक)
बी) आॅडिटोरियम - 01 नं. (बैठने की क्षमता 200)
सी) सेमिनार रुम/ - 01 नं. (बैठने की क्षमता 25)
कॉन्फ्रेन्स हॉल

वर्क्यॉप/प्रयोग्यालाए

वर्तमान में चल रहे ्यैक्षणिक पाठ्यक्रमों की आवश्यकतानुसार उपकरणों से सुसज्ज वर्क्यॉप उपलब्ध है । यहॉं ्यैक्षणिक और प्रशीक्षण कार्यक्रमों को आयोजित करने के लिए नौ सुसज्ज
प्रयोग्यरलाए हैं ।

कम्प्यूटर सेन्टर
इस संस्थान में एक सुसज्ज कम्प्यूटर सेन्टर है जिसमें सारे संस्थान एरिआ को कवर करते हुए लैन कनेक््यन और इन्टरनेट सुविधा उपलब्ध है ।

210 मेगावाट सिमुलेटर
एनपीटीआई (प.क्षे.), नागपुर में एक फुल स्कोप रीयल टाइम रिप्लीका स्टेट आॅफ आर्ट 210 मेगावाट थर्मल पावर प्लान्ट ट्रेनिंग सिमुलेटर, उपलब्ध है, जिसकी स्थापना वड्र्ढ 1998 में हुई थी और जिस पर रु. 20 करोड़ की लागत आई थी । इस सिमुलेटर के माध्यम से पावर प्लान्ट में काम कर रहे इन्जीनियरों को प्रशीक्षण की सुविधा उपलब्ध कराई जाती है।